Saturday, March 30, 2019

KYU RABBA -BADLA 2019 SONG LYRICS / SONG LYRICS IN HINDI AND ENGLISH

Kyu rabba -BADLA 2019
Song lyrics in hindi and english



Song: Kyun Rabba
Movie – Badla
Singers – Armaan Malik
Musicians – Amaal Mallik
Lyrics– Kumaar



Kyu rabba lyrics
Lyrics in English

Dil haste-haste ro parha, Dard aansuon mein hai bada (x2), 

Tooti sabse hai yaari, Main toh zindagi se haari, Gayi saanson ko dukha ke kahan pe? Ye hawa. 

Kyun rabba is kadar todeya ve, Ke ik tukda na chhodeya, Dhadkane ke liye dhadkano mein, Kuch na bacha (x2).

 Todeya ve, todeya ve, Dhadkank mein. Khud ka wajood kho gaya, Saaya bhi paraaya ho gaya, Dekha hai tujhko kahin pe, Bolay mera aayina (x2). 

Khud ko na pehchanu, Pata khud ka na jaanu, Jaaun ab main kahan pe Dikhay na raasta. 

Kyu rabba is qadar torheya vay, Ke ik tukda na shodeya, Dhadkanay ke liye dhadkano me, Kush na bachaa (x2).

 Dil ka naseeb tha bura, Jo socha tha wo na huwa, Door so jo laga samandar, Tha woh manzar ret ka (x2). 

Dhokha deke taqdeerein, Jhooti nikli lakeerein, Karun kispay yakeen ye samajh mein Aaye naa. 

Kyun rabba is kadar todeya ve, Ke ik tukda na chhodeya, Dhadkane ke liye dhadkano mein, Kuch na bacha (x2). Todya ve, todya ve, Dhadkanon mein.




Kyu rabba 
Song lyrics in Hindi




दिल हंसते हंसते रो पड़ा
दर्द आँसुओं में है बढ़ा
दिल हंसते हंसते रो पड़ा
दर्द आँसुओं में है बढ़ा
टूटी सबसे यारी
मैं तोह ज़िन्दगी से हारी
गयी साँसों को दुखा के कहाँ पे ये हवा
क्यूँ रब्बा इस क़दर तोड़ेया वे
की इक टुकड़ा ना छोड़ेया
धड़कने के लिये धड़कनों में
कुछ ना बचा
क्यूँ रब्बा इस क़दर तोड़ेया वे
की इक टुकड़ा ना छोड़ेया
धड़कने के लिये धड़कनों में
कुछ ना बचा
तोड़ेया वे
तोड़ेया वे
धड़कनो ने
तोड़ेया वे
खुद का वजूद खो गया
साया भी पराया हो गया
देखा है तुझको कहीं पे
बोले मेरा आईना
खुद का वजूद खो गया
साया भी पराया हो गया
देखा है तुझको कहीं पे
बोले मेरा आईना
खुदको ना पहचानु
पता खुद का ना जानु
जाऊँ मैं कहाँ पे
दिखे ना रास्ता
क्यूँ रब्बा इस क़दर तोड़ेया वे
की इक टुकड़ा ना छोड़ेया
धड़कने के लिये धड़कनों में
कुछ ना बचा
क्यूँ रब्बा इस क़दर तोड़ेया वे
की इक टुकड़ा ना छोड़ेया
धड़कने के लिये धड़कनों में
कुछ ना बचा
दिल का नसीब था बुरा
जो सोचा था वोह ना हुआ
दूर से जो लगा समंदर
था वोह मंज़र रेत का
दिल का नसीब था बुरा
जो सोचा था वोह ना हुआ
दूर से जो लगा समंदर
था वोह मंज़र रेत का
धोखा दे गयी तक़दीरें
झूठी निकली लक़ीरें
करूँ किसपे यक़ीन समझ में आये ना
क्यूँ रब्बा इस क़दर तोड़ेया वे
की इक टुकड़ा ना छोड़ेया
धड़कने के लिये धड़कनों में
कुछ ना बचा
क्यूँ रब्बा इस क़दर तोड़ेया वे
की इक टुकड़ा ना छोड़ेया
धड़कने के लिये धड़कनों में
कुछ ना बचा
ना ना ना ना ना...

0 comments:

Post a Comment