Tuesday, April 9, 2019

Vaaste-Dhavani Bhanushali song lyrics | vaaste new song lyrics


 Vaaste-Dhavani Bhanushali song lyrics | vaaste new song lyrics


 Vaaste-Dhavani Bhanushali song lyrics | vaaste new song lyrics



Song – Vaaste
Singers – Dhvani Bhanushali, Nikhil D’Souza
Musicians – Tanishk Bagchi
Lyricists – Arafat Mehmood


Vaaste jaan bhi doon
Main ganwa imaan bhi doon
Kismaton ka likha mod doon
Badle mein main tere
Jo khuda khud bhi de
Jannatein sach kahoon chhod doon

Tumse zyada main na jaanu
Tumse khud ko main pehchanu
Tumse husn main apna maanu mahiya
Vaaste jaan bhi doon
Main ganwa imaan bhi doon
Kismaton ka likha mod doon

Tere alawa koyi bhi khwahish
Nahi hai baaki to ve
Kadam uthaun, jahan bhi jaaun
Tujhi se jaaun milne
Tere liye mera safar
Tere bina main jaaun kidhar

Tumse zyada main na jaanu
Tumse khud ko main pehchanu
Tumse husn main apna maanu mahiya
Vaaste jaan bhi doon
Main ganwa imaan bhi doon
Kismaton ka likha mod doon



Badle mein main tere
Jo khuda khud bhi de
Jannatein sach kahoon chhod doon
Tu hi hai savera mera
Tu hi kinara mera

Tu hi hai dariya mera
Khuda ka zariya mera
Tujhi se hota shuru yeh mera kaarwan
Tujhi pe jaake khatam
Yeh mera saara jahan

Vaaste jaan bhi doon
Main ganwa imaan bhi doon
Kismaton ka likha mod doon





Vaaste-Dhavani Bhanushali song lyrics | vaaste new song lyrics

Song lyrics in hindi 


गाना: वास्ते
गायक: धावनी भानुशाली, निखिल डिसूज़ा
गीतकार: अफ़रात महूद
संगीतकार: तनिश्क बाग़चि



वास्ते जान भी दूँ
मैं गवाँ ईमान भी दूँ
क़िस्मतों का लिखा मोड़ दूँ
बदले में मैं तेरे
जो ख़ुदा खुद भी दे
जन्नतें सच कहूँ छोड़ दूँ
तुमसे ज़्यादा मैं ना जानू
तुमसे खुदको मैं पहचानूँ
तुमको बस मैं अपना मानूँ माहिया

तुमसे ज़्यादा मैं ना जानू
तुमसे खुदको मैं पहचानूँ
तुमको बस मैं अपना मानूँ माहिया

वास्ते जान भी दूँ
मैं गवाँ ईमान भी दूँ
क़िस्मतों का लिखा मोड़ दूँ

तेरे अलावा कोई भी ख़्वाहिश
नही है बाक़ी दिल में
कदम उठाऊं जहाँ भी जाऊँ
तुझी से जाऊँ मिल मैं

तेरे अलावा कोई भी ख़्वाहिश
नही है बाक़ी दिल में
कदम उठाऊं जहाँ भी जाऊँ
तुझी से जाऊँ मिल मैं

तेरे लिए मेरा सफ़र
तेरे बिना मैं जाऊँ किधर

तुमसे ज़्यादा मैं ना जानू
तुमसे खुदको मैं पहचानू
तुमको बस मैं अपना मानूँ माहिया

वास्ते जान भी दूँ
मैं गवाँ ईमान भी दूँ
क़िस्मतों का लिखा मोड़ दूँ
बदले में मैं तेरे
जो ख़ुदा खुद भी दे
जन्नतें सच कहूँ छोड़ दूँ

तू ही सवेरा मेरा
तू ही किनारा मेरा
तू ही है दरिया मेरा
ख़ुदा का ज़रिया मेरा
तुझी से होता शुरू ये मेरा कारवाँ
तुझी पे जाके ख़तम
ये मेरा सारा जहाँ

वास्ते जान भी दूँ
मैं गवाँ ईमान भी दूँ
क़िस्मतों का लिखा मोड़ दूँ

0 comments:

Post a Comment