Ab Aaja अब आजा Song Lyrics | Gajendra Verma Ft. Jonita Gandhi | Latest Hindi Song 2020


Ab Aaja अब आजा Song Lyrics | Gajendra Verma Ft. Jonita Gandhi | Latest Hindi Song 2020

Ab Aaja is a Latest Hindi Song sung by Gajendra Verma Ft. Jonita Gandhi. Lyrics of Ab Aaja Song is given by Aseem Ahmed Abbasee. Music is given by Gajendra Verma.

Song details:

Song: Ab Aaja
Singer: Gajendra Verma
Singer: Jonita Gandhi
Music: Gajendra Verma
Lyrics: Aseem Ahmed Abbasee


Ab Aaja Song Lyrics

Rookhe rukhe hain
Mausam ke labb bin tere
Sookhe pedon se
Ho gaye mere shaam savere

Ik ranj hai raah guzaron mein
Ik aag lagi gulzaron mein
Har saans ghuli angaaron mein
Sunn bhi le meri sadaa

Ab aaja sanam phiru main bekarar
Ab aaja sanam karun tera intezar

Ab hain adhoori
Tere bina raatein yeh saari meri
Ab hain adhoore
Tere bina khwab yeh saare mere

Ho tere bin na ghuzarane pe waqt tula hai
Tere bin jaise dard hawa mein ghula hai
Jaise chot hari hai jaise zakam khula hai
Mera jeena hua saza

Ab aaja sanam phiru main bekarar
Ab aaja sanam karun tera intezar

Bin tere khali khali
Taaron bhara hoke bhi aasmaan
Sune raste saare
Suna suna sa hai saara jahan

Tere bin tere bin haan tere bin
Berukhi se kat’te hain mere din

Tere bin jaise
Chalti hai chand si raatein
Tere bin jaise
Khalti hain honthon ko baatein

Jaise kore varak jaise khali davatein
Jaise sab kuchh hai bewajah

Ab aaja sanam phiru main bekarar
Ab aaja sanam karun tera intezar








 अब आजा Hindi Lyrics

रूखे-रूखे हैं मौसम के लब बिन तेरे
सूखे पेड़ों से हो गए मेरे शाम-सवेरे

एक रंज है राहगुज़ारों में
एक आग लगी गुलज़ारों में
हर साँस घुली अंगारों में
सुन भी ले मेरी सदा

अब आजा, सनम, फ़िरूँ मैं बेक़रार
अब आजा, सनम, करूँ तेरा इंतज़ार
अब हैं अधूरी तेरे बिना रातें ये सारी मेरी
अब हैं अधूरे तेरे बिना ख़्वाब ये सारे मेरे

हो, तेरे बिन ना गुज़रने पे वक्त तुला है
तेरे बिन जैसे दर्द हवा में घुला है
जैसे चोट हरी है, जैसे ज़ख्म खुला है
मेरा जीना हुआ सज़ा

अब आजा, सनम, फ़िरूँ मैं बेक़रार
अब आजा, सनम, करूँ तेरा इंतज़ार

बिन तेरे ख़ाली-ख़ाली तारों भरा होके भी आसमाँ
सूने रस्ते सारे, सूना-सूना सा है सारा जहाँ
तेरे बिन, तेरे बिन, हाँ, तेरे बिन बेरुखी से कटते हैं मेरे दिन

तेरे बिन जैसे जलती हैं चाँद सी रातें
तेरे बिन जैसे खलती हैं होंठों को बातें
जैसे कोरे वरक़, जैसे ख़ाली दवातें
जैसे सबकुछ है बेवजह

अब आजा, सनम, फ़िरूँ मैं बेक़रार
अब आजा, सनम, करूँ तेरा इंतज़ार