Log Kya Kahenge लोग क्या कहेंगे Song Lyrics | Abhinav Shekhar | Latest Hindi Song 2020


Log Kya Kahenge लोग क्या कहेंगे Song Lyrics | Abhinav Shekhar | Latest Hindi Song 2020

Log Kya Kahenge is a Latest Hindi Song sung by Abhinav Shekhar. Lyrics of Log Kya Kahenge Song is given by Abhinav Shekhar. Music is given by Aishwarya Tripathi.


Song details:

Song : Log Kya Kahenge
Singer : Abhinav Shekhar
Lyrics : Abhinav Shekhar
Music : Aishwarya Tripathi





Log Kya Kahenge Song Lyrics

Log kya kahenge
Log kya kahenge
Log kya kahenge...

Unka kaam hi hai kehna
Samajh sakenge dard
Jab padega sath rehna
Zindagi ka falsafa hai
Katne ko har khada hai
Batne ko bol phir dekh
Kiska dil bada hai

Log kya kahenge
Log kya kahenge...

Chatne mein sab lage hain
Baat inke pade hain
Waqt pe tu dekh kitne
Sath inmein se khade hain
Manchale yeh diljale hain yeh saare

Manchale yeh diljale hain
Manchale yeh diljale hain
Dusron ke ghar pale hain
Girgiton sa rang badalte
Yeh to door se bhale hain
Bhai yeh to door se bhale hain

Har kahin faila rakhi hai
Gandgi macha rakhi hai
Khud ke aaine mein jis ke
100 dararein aa chuki hain

Karm jinke hain andhere
Loot’te hain har savere
Har kisi ko gyan paan
Dete rehte hain bathere

Log kya kahenge
Log kya kahenge
Log kya kahenge
Mujhko fark bhi na padta
Dusron ko bolne se
Khud ka muh hai sadta

Kalam jale zuban tale
Yeh sunke jo raawan jale
Jeevan ke har mod pe
Koshish karenge daud ke
Daud ke daud ke daud ke

Daud daud
Jeevan ke har mod pe
Koshish karenge daud ke
Tu achcha bhi karega
To karenge saare ninda
Udne ki khwaishon ne hi
Rakhi hain saasein zinda
Khol de yeh pankh mere
Kehta hai parinda
Log kya kahenge
Ab tu chhod yeh chinta

Log kya kahenge
Log kya kahenge
Log kya kahenge...





 लोग क्या कहेंगे Hindi Lyrics

लोग क्या कहेंगे
लोग क्या कहेंगे
लोग क्या कहेंगे...

उनका काम ही है कहना
समझ सकेंगे दर्द
जब पड़ेगा साथ रहना
ज़िंदगी का फलसफा है
काटने को हर खड़ा है
बाटने को बोल फिर देख
किसका दिल बड़ा है

लोग क्या कहेंगे
लोग क्या कहेंगे...

चाटने में सब लगे हैं
बात इनके पड़े हैं
वक़्त पे तू देख कितने
साथ इनमें से खड़े हैं
मनचले यह दिलजले हैं
यह सारे

मनचले यह दिलजले हैं
मनचले यह दिलजले हैं
दूसरों के घर पाले हैं
गिरगितों सा रंग बदलते
यह तो डोर से भले हैं
भाई यह तो डोर से भले हैं

हर कहीं फैला रखी है
गंदगी मचा रखी है
खुद के आईने में जिसके
100 दरारें आ चुकी हैं

कर्म जिनके हैं अंधेरे
लूट ते हैं हर सवेरे
हर किसी को ज्ञान पॅयन
देते रहते हैं बथेरे

लोग क्या कहेंगे
लोग क्या कहेंगे
लोग क्या कहेंगे...

मुझको फ़र्क भी ना पड़ता
दूसरों को बोलने से
खुद का मुँह है सदता

कलाम जले ज़ुबान तले
यह सुनके जो रवाँ जले
जीवन के हर मोड़ पे
कोशिश करेंगे दौड़ के
दौड़ के दौड़ के दौड़ के

दौड़ दौड़
जीवन के हर मोड़ पे
कोशिश करेंगे दौड़ के
तू अछा भी करेगा
तो करेंगे सारे निंदा
उड़ने की ख्वाहिशों ने ही
रखी हैं साँसें ज़िंदा
खोल दे यह पंख मेरे
कहता है परिंदा
लोग क्या कहेंगे
अब तू छोड़ यह चिंता

लोग क्या कहेंगे
लोग क्या कहेंगे
लोग क्या कहेंगे...